chessbase india logo
Hindi News

 

 

विदित हुए विराट ! 2700 पार ! बने सबसे युवा भारतीय !

by निकलेश जैन - 21 August 2017

जनवरी 2009 की बात है ,स्थान था दिल्ली और एक बालक जिसकी उम्र 15 साल थी वह तब फीडे मास्टर था और रेटिंग थी 2447 पारसनाथ ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट में विश्व की नयी सनसनी बनकर उभरे और तब ग्रांड मास्टर बन चुके परिमार्जन नेगी जिनकी रेटिंग तब 2600 थी मैच हार गया था उसके लिए हार सहन करना बहुत मुश्किल हो रहा था और मैं बस उसे देख रहा था ,खैर हार ना मानने की उसकी आदत आज भी बनी हुई है पर अब वह बालक विदित गुजराती भारत का सबसे कम उम्र में 2700 का आंकड़ा छूने वाला खिलाड़ी बन गया है ! विदित अब विराट हो गया है ! और कहना ही होगा कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ! शुभकामनाए विदित !! 

कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती ! 


लिनारेस (स्पेन ) भारत के लिए  स्पैनिश लीग का समापन एक नई सौगात लेकर आया है भारत के 22 वर्षीय युवा खिलाड़ी विदित गुजराती नें विश्व शतरंज जगत का सबसे खास माने जाने वाला रेटिंग का आकडा 2700 पार कर लिया है । विदित नें स्पैनिश क्लब टीम सोलवे की ओर से खेलते हुए पहले बोर्ड पर 7 में से अपराजित रहते हुए 4.5 अंक जुटाये और बदले में उन्हे अपनी अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग में 8.7 अंको का फायदा हुआ और ....
 विदित 1 सितंबर को आने वाली रेटिंग लिस्ट में 2702 रेटिंग के साथ विश्व रैंकिंग में 41वे स्थान पर पहुँच जाएंगे ।
उहोने अपराजित रहते हुए यह उपलब्धि हासिल की और जिस मैच से उन्होने इस आकडे को छुआ आइये देखते है इंटरनेशनल मास्टर सागर शाह का विश्लेषण !
[Event "1st Division ESP-chT 2017"]
[Site "Linares"]
[Date "2017.08.20"]
[Round "7"]
[White "Vidit, Santosh Gujrathi"]
[Black "Areshchenko, Alexander"]
[Result "1-0"]
[ECO "B91"]
[WhiteElo "2693"]
[BlackElo "2652"]
[Annotator "Sagar Shah"]
[PlyCount "69"]
[EventDate "2017.??.??"]

{This is the game that helped Vidit cross 2700 Elo on the rating list.} 1. e4
c5 2. Nf3 d6 3. d4 cxd4 4. Nxd4 Nf6 5. Nc3 a6 6. g3 $5 {This is usually
considered as an innocuous system of deveopment for White. But Vidit surely
has some ideas up his sleeve.} e5 7. Nde2 Be7 8. Bg2 b5 9. Nd5 Nxd5 10. Qxd5
Ra7 11. Be3 Rb7 {This is almost a new move having been seen in only game
before.} (11... Be6 {has been seen in 10 games before.}) 12. O-O O-O 13. Qd3
Be6 14. b3 Nd7 15. Nc3 Nf6 (15... Nc5 16. Qd2 $14) 16. a4 Qb8 17. axb5 axb5 18.
Bg5 {Vidit tries to fight for the d5 square.} b4 19. Bxf6 Bxf6 20. Nd5 Bd8 (
20... Rc8 $5 $14) 21. Rfd1 Bxd5 22. Qxd5 {White's advantage is quite tangible
here, because it is not so easy to defend the d6 pawn.} Bb6 (22... Be7 {
Such a passive move would be refuted with} 23. Bf1 $1 {And the bishop moves to
c4.}) 23. Bf1 Bc5 24. Ra6 g6 25. Bc4 {While the bishops are active for both
sides, White's major pieces are more active and this gives him a slight pull.}
Kg7 26. Kg2 f5 $6 {This move looks very natural from a human point of view,
but concretely it weakens Black's king position.} (26... Rc7 {Keeping things
as they are would make it difficult for White to breakthrough.}) 27. Rda1 Ra7
28. exf5 Rxa6 29. Rxa6 gxf5 30. Ra5 Kh8 31. Rb5 Qe8 32. Rb7 e4 33. Qd1 $1 {
A very strong manoeuvre. The queen threatens to come to a1 at the right moment
to deliver the checkmate.} f4 $2 {A huge mistake that instantly loses the game.
} (33... Qg6 $16) 34. Rb8 $3 {Of course, such tactics are pretty easy for
Vidit to see. One would say Areshchenko blundered such an easy tactic. But the
way Vidit put pressure on him throughout the game forced him to go wrong.} f3+
35. Kh1 {And it's all over. Taking the rook is of course met with Qa1+ with a
mate!} 1-0

सबसे पहले आनंद !! 

सबसे पहले विश्वनाथन आनंद नें जनवरी 1993 को 23 साल की उम्र मे यह मुकाम हासिल किया था उस समय 2700 का स्तर आजके 2800 की ही तरह था और कहना होगा की निश्चित तौर पर आनंद की उपलब्धि ज्यादा बड़ी थी !क्यूंकी 2700 रेटिंग सीधे उन्हे विश्व रैंकिंग में चौंथे स्थान पर ले गयी थी 
ना तो उस समय तैयारी के इतने साधन थे और ना ही इतने मैच ! और ना ही विदित की तरह आनंद के पास कोई विश्वनाथन आनंद का उदाहरण था !! 
आनंद की उस उपलब्धि को उन्होने सही साबित करते हुए उस समय गैरी कास्पारोव के लिए वह सबसे बड़े प्रतिद्वंदी बनकर उभरे थे ! और उसी समय दुनिया उनके विश्व चैम्पियन बनने का इंतजार करने लगी थी और फिर वो बने भी तो पाँच बार के विश्व चैम्पियन !! 
विश्व ब्लिट्ज़ चैंपियनशिप 2016 में विदित और आनंद का मैच ड्रॉ रहा था और यह विदित के लिए इतिहासिक लम्हा था ! तो आनंद भी विदित से बहुत खुश नजर आए थे !
और शायद उन्हे अंदाजा हो गया था की विदित अब छुपने वाला सूरज नहीं है !

दूसरे शशिकिरण 

 कृष्णन शशिकिरण नें जनवरी 2009 में 28 वर्ष की उम्र में यह फासला तय किया था 
भारत के लिए सबसे ज्यादा शतरंज ओलंपियाड खेलने वाले शशिकिरण नें हमेशा ही देश का गौरव बढ़ाया है और इस समय वह एक बार फिर 2700 के करीब पहुँच चुके है उम्मीद है वह भी वापस यह कारनामा करेंगे !विदित और शशि भारतीय टीम के बेहद महत्वपूर्ण सदस्य है ! 

तीसरे रहे हरिकृष्णा !!

पेंटाला हरीकृष्णा नें फरवरी 2013 में 27 वर्ष की उम्र में यह आंकड़ा पार किया था
हरिकृष्णा पिछले कुछ वर्षो से लगातार 2750 के आसपास बने हुए है और फीडे ग्रांड प्रिक्स के कुछ दिन पूर्व ही सम्पन्न हुए मैच में तीसरे स्थान पर रहे थे । उम्मीद है वह यूं ही आगे बढ़ते रहेंगे ! 
देखे क्या था विदित और हरिकृष्णा के मैच में पढे सागर शाह का यह लेख 
अपनी इस उपलब्धि के बाद खुशी के पल अपने दोस्तो से साथ बाटते विदित ! जी हाँ दायी तरफ नजर आ रहे अधिबन भास्करन भारत के अगले 2700 हो सकते है !
2700 के उपर रेटिंग रखने वाले भी विदित फिलहाल चीन के वे यी के बाद दूसरे सबसे युवा खिलाड़ी बन गए है । उनसे पहले अब तक । उनके बाद कृष्णन शशिकिरण नें जनवरी 2009 में 28 वर्ष की उम्र में तो पेंटाला हरीकृष्णा नें फरवरी 2013 में 27 वर्ष की उम्र में यह आंकड़ा पार किया था इस लिहाज से विदित की यह उपलब्धि भारत को एक बार फिर विश्व चैम्पियन मिलने की उम्मीद जगा रही है । खैर विदित नें कहा की वैसे खेल में अच्छा खेलना ही मायने रखता है पर यह आंकड़ा छूकर उन्हे एक आत्म संतोष मिला है और वह और मेहनत करने की कोशिश करेंगे । फिलहाल भारत में उनसे आगे विश्वनाथन आनंद (2793) और पेंटाला हरिकृष्णा (2741) है ।  
चेसबेस इंडिया विदित को उनकी इस उपलब्धि पर बधाई देता है और अच्छे भविष्य की शुभकामनाए प्रेषित करता है !! 

Sharing statistics:


Share on: